NEWS FLASH आता.. ऑनलाईन द्वारे चालणार अंगणवाडी ताईंचे कामकाज, मृग जाऊन आठ दिवस लोटले... पाऊस झाला बेपत्ता, अधिकाराचा गैरवापर करून स्वतःच्या लाभासाठी भावास दिली कोट्यावधीची ठेकेदारी, बुलढाणाचे शाखाधिकारी उदय चौधरी यांच्या बदलीनंतर निरोप, प्रा.दत्ता मगर याना पीएचडी प्रदान, ..., **

रविवार, 23 जून 2019

सरसम में ग्रामसेवक पदाधिकारियों कि अनदेखी से ग्रामवासी गंदगी से परेशान


हिमायतनगर || तालुका के ग्राम सरसम बू में पिछले कुछ सालों से यहां काम कर रहे ग्रामसेवक और पदाधिकारी अज्ञानता के चरम पर पहुंच गए हैं। नागरिकों की समस्याओं और सफाई की तरफ अनदेखी के कारण गंदगी का साम्राज्य फैल गया है। इसके कारण लोग बिमारियो कि चॅपेट अणे कि समभावाने बडगई हैं, और इससे परेशान कुछ लोगो ने गंदगी का आलम हुए फोटोस सोशल मीडिया पर रखकर ग्राम पंचायत के स्वार्थ और मामाने करोबर के खिलाप नाराज़ भारी प्रतिक्रिया लिखने से जनता का रोष बढ़ रहा है।


हिमायतनगर तालुका के सरसम बु. गाँव कभी विकास की दृष्टि से चर्चा में आया था। किंतु आज कस्बे में विकास के नाम पर यहा पर नियुक्त ग्रामविकास अधिकारी जनता और सरकार को गुमराह करके अपनी झोली भर रहे हैं। गाँव में नागरि समस्याओं और सुविधाओं के लिए उपलब्ध धन में, हेराफेरी कर  अपने और जनप्रतिनिधीयो के हितों के लिए काम कर रहा है। वास्तव में, ग्राम पंचायत को मानसून से पहले स्वच्छता, सफाई को ध्यान में रखते हुए गाँव में के सभी नालीयो कि स्वच्छता करने के लिए सावधान रहने की आवश्यकता है। कई बार इस मामले में जागरूक नागरिक ने इस संबंध में सूचना कि थी, किंतु इस और अनदेखी करणे के कारण आज नालीयो का गंदा बदबुदर पाणी सड़कों पर आया है। चूंकि सभी ग्राम पंचायत नालियों को समय पर साफ नहीं किया जाने ने यास समस्या उभारी है, इस प्रकार से मच्छरो कि संख्या बढकर यहा पर स्थित नागरिकों के स्वास्थ्य के लिए खतरा निर्माण होणे की संभावना बडी है। इतना ही नहीं, गंदगी के परिसर में यहा बदबूदार दूषित पानी कुई और बोअर में रिसावं होकर गाव में डेंग्यू, मलेरिया, डायरिया, आदी भायवाय बिरमारियो का डर ग्रामवासियो में निर्माण हुवा है, इसी गंदेपानी से होकर कुए और बोअर से पानी लाने के लिये नागरिक कि पहुंचने कि नौबत आई हैं। इस बात कि और ग्राम पंचायत साफ अनदेखी करणे से अनेको ने ग्राम पंचायत को  लिखित और सूचित शिकायत देणे के बावजुद सार्वजनिक हित के मामले में काम करने के लिए कोई भी तैयार नहीं हैं, यह वास्तविकता है, ऐसी जाणकारी सामाजिक कार्यकर्ता मारोती सूर्यवंशी ने सोशियल मीडिया में रखकर उजागर कि है, और ग्राम कि इस समस्या कि और पत्रकार को चुनौती देकर समस्या से राहत दिलाकर सार्वजनिक हित के लिया खबर प्रकाशित करणे का अनुरोध किया है। इस मामले को जिम्मेदार संबंधित ग्रामसेवक के कारोबार कि जांच मुख्य कार्यकारी अधिकारी अशोक काकडे, गुटविकास अधिकारी श्री सुधीर माजामकर, विस्तार अधिकारी रविराज क्षीरसागर द्वारा करने कि मांग भी कि है|  इस संबंध में, संबंधित ग्राम विकास अधिकारी जोशी से संपर्क करने का प्रयास करने के लिए फोन लागाया किंतु समपार्क नाही हो सका।

तत्काल ध्यान नहीं देते हैं, तो लोकतांत्रिक तरीके से आंदोलन करेंगे - सूर्यवंशी
गांव में जिस जगह पर गंदगी है, वहां से लोगों को पीने का पानी देना पड़ता है। यहा के गंदे पाणी से पानी के खातीर हैण्डपंप के स्थान जाणा पडता है, यही पर पण की कुवा भी है जहां लोगों को गंदगी से होकर   पिणे के पाणी लॅन पडता है,  उस जगह के खंभों पर कोई रोशनी नहीं है, जलसंकट के कारण लोगों को रात का पानी भरणा पडता है, क्योंकि गांव में पानी की कमी है। इस गंदगी के कारण, ग्राम पंचायत के प्रशासन के बारे में राजनैतिक लॉग चुप्पी साधे हुए हैं। इसलिये ग्राम के समस्या और बिमारियो के उद्भव को रोखने के लिये तात्काल स्वच्छता कर गंदगी दूर करणे कि मांग मारोती सूर्यवंशी ने दैनिक भास्कर से कि है, अगर वह इस पर ध्यान नहीं दिया गया तो लोकतांत्रिक तरीके से आंदोलन करेंगे ऐसी चेतावणी भी दि है।

कोई टिप्पणी नहीं: