NEWS FLASH 1..गणेशोत्सवाबरोबर विधानसभेच्या निवडणुकीचीही होतेय जोरदार चर्चा,2..नांदेड जिल्ह्यात 3 हजार सार्वजनिक गणेश मुर्ती स्थापन होण्याची शक्यता,3...गुटख्याच्या तस्करीवर जरब आणणारे नांदेड पोेलिस नवी दिल्लीच्या बक्षीसास पात्र ठरतील, 4...उत्सव काळात वीजपुरवठा खंडित झाल्यास खपवून घेणार नाही – अ.अखिल अ.हमीद, 5...उत्तराखंडचे माजी मुख्यमंत्री भगत सिंह कोश्यारी महाराष्ट्राचे नवनियुक्त राज्यपाल, 6... मराठवाड्यात दुष्काळमुक्तीसाठी ‘वॉटर ग्रीड’ योजनेतून पाण्याची व्यवस्था – मुख्यमंत्री फडणवीस, 7...माहूरच्या रामगड किल्यात प्रेमी युगलाचा खुन केल्याच्या आरोपातील 11 जणांची मुक्तता, 8...आगामी विधानसभेत वंचित बहुजन आघाडीचाच माणूस विरोधी पक्ष नेता असेल – मुख्यमंत्री, ..., **

बुधवार, 12 दिसंबर 2018

जिले में खटारा बसों की तुरंत मरम्मत करें - संगमेश्वर लांडगे 

नांदेड/संवाददाता (अनिल मादसवार) खटारा बसो के कारण सफर करणे वाले एक छात्र कि मौत होणें कि घटना हिमायतनगर शहर से १ किमी दुरी पर हुई हैं। इस दुर्घटना को गंभीरता से लेकरं वीर भगतसिंग परिषद नांदेड के जिलाध्यक्ष संघमेश्वर लांडगे ने नांदेड के नियंत्रण कक्ष अधिकारी को ज्ञापन देकर जिले में सभी खटारा बसों की तुरंत मरम्मत करेंतेहुये यात्रियों को सुरक्षा देणे कि मांग कि है।

CM Sports सीएम चषकचे हिमायतनगरात शानदार उदघाटन

मंगलवार, 11 दिसंबर 2018

चलती बससे गिरणे से स्कुली छात्र कि मौत

गड्डे से भरे रास्ते के कारण बसका दरवाजा अचानक से खुलं गया 

हिमायतनगर/संवादादाता (अनिल मादसवार) शहर से ढाणकी मध्यमार्ग से उमरखेड कि और रवाना हुई एसटी महामंडल कि बस के दरवाजे से गिरकर १० वि कक्षा के छात्र कि मौत होणे कि घटना मंगलवार के दोपहर १ बाजे के दुरून घटी है| इस दुर्घटना से ग्राम डोलारी में मतं की छाया है|

बताया जाता है कि, विगत कुछ महिनो से उमरखेड डेपो मैनेज द्वारा इस रास्ते पर खटारा बसे चलाई जा

सोमवार, 10 दिसंबर 2018

महाराणा प्रताप के वंशजों का डेरा हिमायतनगर (वाढोणा) शहर में

आग में तपाकर लोहे की वस्तुएं बनाते हैं

हिमायतनगर/संवाददाता (अनिल मादसवार) आग में तपे हुए लोहे पर लोहे के हातोडे से वार कर लोहे को पिघलाना हमारा खंडणी पेशा है। खून पसीने कि मेहनत खाते है, किसी के सामने हाथ नहीं फैलाते। देशके विभिन्न मंचसे खडे होकर राजनैतिक दल के लोग महाराणा प्रताप जैसे व्यक्तित्व के होणे कि बात बडी होशियारी से दोहरातें है। लेकिन गरिबी में जीवनयापन करणेवाले महाराणा प्रताप के वंशजो कि खातीर योजना का लाभ देणे के मामले में सरकार पीछे है। विगत कई सालो से आज भी हम अपनी परंपराओं का पूरी निष्ठा से पालन करते आ रहे हैं। कारणवष हमें घुमंतू ही बनकर जीवन व्यतीत करना पडता हैं। हमारी सुध लेकर मुख्य धारा में लानेवाला कोई भी नहीं है। ऐसा आरोप सुरज राठौड नामक महिला ने लगाया है।